दैनिक भास्कर हिंदी: कोरोना पर 'प्लान बी': राहुल गांधी बोले- भारत में लॉकडाउन फेल, अब मोदी सरकार आगे की रणनीति बताए

May 26th, 2020

हाईलाइट

  • कोरोना लॉकडाउन को लेकर राहुल की प्रेस कॉन्फ्रेंस

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने मार्च महीने में ही लॉकडाउन घोषित कर दिया था, लेकिन इसके बाद भी कोरोना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। मई महीने में वायरस और तेजी से फैल रहा है, वहीं लॉकडाउन 4.0 की अवधि भी 31 मई को खत्म होने वाली है। ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने चिंता जाहिर करते हुए मोदी सरकार से सवाल किया है कि, सरकार देश में इस संकट से कैसे निपटेगी। मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रेस वार्ता में राहुल ने देश में लगे राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को कोरोना की रोकथाम में फेल बताया है। उन्होंने कहा, भारत में लॉकडाउन फेल हो गया है, नरेंद्र मोदी का जो लक्ष्य था, वह पूरा नहीं हुआ। अब सरकार और पीएम बताएं कि कोरोना को रोकने के लिए उनकी आगे की रणनीति क्या है।

लॉकडाउन के बावजूद देश में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा, भारत दुनिया का पहला देश है, जो कोरोना वायरस के बढ़ते वक्त लॉकडाउन हटा रहा है। दुनिया के बाकी देशों ने लॉकडाउन तब हटाया, जब बीमारी कम होनी शुरू हुई। ऐसे में ये स्पष्ट है कि हमारे देश में लॉकडाउन विफल हो गया है। जो लक्ष्य मोदी जी का था, वो पूरा नहीं हुआ। 

प्रधानमंत्री मोदी बताएं "प्लान बी"
राहुल ने मोदी सरकार से आगे की रणनीति को लेकर सवाल करते हुए कहा, अब हम भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री जी से पूछना चाहते हैं कि "प्लान बी" क्या है? बीमारी 21 दिन में कम नहीं हुई, बल्कि बढ़ रही है। लॉकडाउन फेल हुआ है। लॉकडाउन से जैसी उम्मीद थी, वैसा नहीं हुआ है। सरकार क्यों फेल हुई ये मुद्दा नहीं है, असल मसला ये है कि देश में अभी क्या हो रहा है। राहुल गांधी का सवाल है कि, प्रधानमंत्री मोदी बताएं कि, कोरोना को रोकने के लिए उनकी आगे की रणनीति क्या है? लॉकडाउन से कैसे निपटेंगे? मजदूर भाई-बहनों, MSMEs की मदद कैसे करेंगे? ये राजनीति नहीं है, बल्कि मेरी चिंता है। बीमारी बढ़ती जा रही है। इसलिए ये सवाल पूछा जा रहा है।

Coronavirus India: देश में 24 घंटे में 6535 नए केस और 146 की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार

कोरोना की वजह से बढ़ी बेरोजगारी की समस्या
उन्होंने कहा, भारत में पिछले काफी समय से बेरोजगारी की समस्या है, लेकिन अभी कोरोना संकट की वजह से ये समस्या बढ़ गई है। अब कई छोटे बिजनेस बंद हो जाएंगे और लोगों की नौकरियां जाएंगी। आर्थिक पैकेज के बारे में कई प्रेस कॉन्फ्रेंस हुईं, हमें बहुत उम्मीदें थीं, पीएम ने कहा कि यह जीडीपी का 10% होगा। वास्तविकता यह है कि ये जीडीपी के 1% से भी कम है और उसमें भी ज्यादातर लोन है, नकद नहीं। 

First Anniversary: मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर BJP करेगी वर्चुअल रैलियां, 1000 कॉन्फ्रेंस

केंद्र की मदद के बिना राज्यों के लिए कार्य करना कठिन 
राहुल गांधी ने कहा, कई राज्यों में वायरस तेजी से फैल रहा है। कांग्रेस शासित राज्यों के पास रणनीति है- हम गरीबों को पैसा और भोजन दे रहे हैं, प्रवासियों का प्रबंधन कर रहे हैं, टेस्ट बढ़ा रहे हैं, लेकिन राज्यों के पास केंद्र सरकार की मदद के बिना कोई रणनीति नहीं हो सकती। कुछ राज्यों में हमारी सरकार है, हम किसानों, मजदूरों को सीधे नकद दे रहे हैं, लेकिन केंद्र सरकार से कोई समर्थन नहीं मिल रहा है। केंद्र सरकार के पर्याप्त समर्थन के बिना हमारे राज्यों के लिए कार्य करना कठिन होता जा रहा है।