comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

वायुसेना ने ही मार गिराया था MI-17 हेलिकॉप्टर, ऑफिसर कमांडिंग का ट्रांसफर

वायुसेना ने ही मार गिराया था MI-17 हेलिकॉप्टर, ऑफिसर कमांडिंग का ट्रांसफर

हाईलाइट

  • MI-17 हेलिकॉप्टर क्रैश के मामले में कोर्ट ऑफ इंक्वायरी चल रही है
  • एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों ने एलओसी पर हमले की कोशिश की थी 
  • इसी दौरान श्रीनगर के पास बडगाम में IAF का एमआई-17 हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना ने श्रीनगर स्थित एयरबेस के एयर ऑफिसर कमांडिंग (AOC) का तबादला कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद श्रीनगर के पास क्रैश हुए MI-17 हेलिकॉप्टर की निष्पक्षता से जांच के लिए एयर ऑफिसर कमांडिंग का ट्रांसफर किया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि भारतीय वायु सेना ने ही अपनी मिसाइल से एमआई-17 हेलिकॉप्टर को मार गिराया था। हालांकि अभी तक एयरफोर्स की तरफ से इस पर कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। 

27 फरवरी को क्रैश हुआ था MI-17 हेलिकॉप्टर
दरअसल भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। इसके अगले दिन यानी 27 फरवरी को पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने जम्मू-कश्मीर में घुसकर हमले की कोशिश की थी। हालांकि वायु सेना ने पाकिस्तान की इस कोशिश को नाकाम करते हुए उसके विमान F16 को मार गिराया था। इसी दौरान भारतीय वायुसेना का एमआई-17 हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में पायलट सहित छह क्रू-मेम्बर्स और एक आम नागरिक की मौत हो गई थी। इसको लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं कि कहीं भारतीय वायुसेना ने ही गलती से अपनी मिसाइल से एमआई-17 हेलिकॉप्टर को मार गिराया था, क्योंकि एयर स्ट्राइक के तुरंत बाद वायुसेना पूरी तरह से चौकन्ना था।   

एयरबेस का सबसे वरिष्ठ अधिकारी होता है AOC
बता दें कि एमआई-17 हैलिकॉप्टर क्रैश के मामले में कोर्ट ऑफ इनक्वायरी चल रही है। इसके तहत कई लोगों की भूमिका की भी जांच हो रही है, जिनमें वे लोग भी शामिल हैं जिनके हाथों में वायु रक्षा तंत्र का नियंत्रण था। वायुसेना कोर्ट ऑफ इनक्वायरी की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करेगी। जो भी दोषी पाया जाएगा उसे गैर इरादतन हत्या का आरोपी बनाया जा सकता है। बता दें कि एयर ऑफिसर कमांडिंग किसी भी एयरबेस का सबसे वरिष्ठ अधिकारी होता है। 

हेलिकॉप्टर के IFF सिस्टम की जांच जारी
इनक्वायरी में इसकी भी जांच की जा रही है, हेलिकॉप्टर पर आइडेंटिफिकेशन ऑफ फ्रेंड और फो (IFF) सिस्टम कहीं बंद तो नहीं था। आईएफएफ वायुसेना के रडारों को इसकी पहचान में मदद करता है कि कोई विमान अपना है या किसी दुश्मन का।

जल्द आएगी अंतिम रिपोर्ट
गौरतलब है कि हेलिकॉप्टर का ब्लैक बॉक्स भी अभी तक बरामद नहीं हो सका है। वायुसेना ने शक जताया है कि जिस गांव में ये हैलीकॉप्टर क्रैश हुआ था, वहां के स्थानीय लोगों ने इसे चुरा लिया होगा। वहीं शुरुआती जांच में पता चला था कि, हेलिकॉप्टर सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल का निशाना बना था। फिलहाल कार्रवाई जारी है। जांच की अंतिम रिपोर्ट भी आना बाकी है। 

कमेंट करें
CZtaE