दैनिक भास्कर हिंदी: कलाम की राह पर कोविंद, राष्ट्रपति भवन में नहीं होंगे धार्मिक कार्यक्रम

June 7th, 2018

हाईलाइट

  • हर बार रमजान के महीने में राष्ट्रपति भवन में होने वाला रोजा इफ्तार पार्टी का आयोजन इस साल से नहीं होगा।
  • यह फैसला उनके उन नियमों के आधार पर लिया गया है, जिसके तहत उन्होंने राष्ट्रपति भवन में टैक्स पेयर्स के पैसे से कोई धार्मिक कार्यक्रम न करने का निर्णय लिया था।
  • पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद ने भी अपने कार्यकाल के दौरान राष्ट्रपति भवन में इफ्तार पार्टी के आयोजन को बंद कर दिया था।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हर बार रमजान के महीने में राष्ट्रपति भवन में होने वाला रोजा इफ्तार पार्टी का आयोजन इस साल से नहीं होगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अब से इसे बंद कर दिया है। यह फैसला उनके उन नियमों के आधार पर लिया गया है, जिसके तहत उन्होंने राष्ट्रपति भवन में टैक्स पेयर्स के पैसे से कोई धार्मिक कार्यक्रम न करने का निर्णय लिया था। बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद ने भी अपने कार्यकाल के दौरान राष्ट्रपति भवन में इफ्तार पार्टी के आयोजन को बंद कर दिया था।

RSS के कार्यक्रम में हिस्सा लेने नागपुर पहुंचे प्रणब दा, कांग्रेस ने बनाई दूरी

राष्ट्रपति कोविंद के प्रेस सचिव अशोक मलिक ने बताया कि रामनाथ कोविंद ने पिछले साल जुलाई में राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी। अपना पदभार ग्रहण करने के बाद ही उन्होंने निर्णय लिया था कि राष्ट्रपति भवन जैसी सरकारी बिल्डिंग में जनता के पैसे से कोई भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा। अशोक मलिक ने कहा, 'राष्ट्रपति कोविंद ने ऑफिस संभालने के बाद से राष्ट्रपति भवन में न तो दिवाली मनाई है न ही क्रिसमस। हालांकि उन्होंने हर त्यौहार पर देश के नागरिकों को बधाइयां दी हैं।' मलिक ने यह  भी बताया कि राष्ट्रपति का यह फैसला धर्मनिरपेक्ष देश के सिद्धांतों पर आधारित है और सभी धार्मिक त्यौहारों पर लागू है।

पहले माधुरी से मिलने पर शाह से नाराज हुईं लता, बनाया तबीयत बिगड़ने का बहाना

बता दें कि इन दिनों मुस्लिम धर्म का सबसे पवित्र महिना चल रहा है। लगभर हर मुस्लिम धर्मावलंबी इन दिनों रोजा रखता है। सुबह से लेकर शाम तक बिना भोजन और पानी के रोजे रखे जाते हैं। शाम को इफ्तार किया जाता है, जिसमें रोजेदार अपना रोजा छोड़ता है और खाना खाता है। मुस्लिम धर्म के इस पवित्र महीने में राष्ट्रपति भवन में हमेशा से इफ्तार पार्टी का आयोजन किया जाता रहा है। एनडीए सरकार के दौरान राष्ट्रपति बने अब्दुल कलाम आजाद के कार्यकाल के दौरान राष्ट्रपति भवन में इफ्तार पार्टी का आयोजन बंद कर दिया गया था। यूपीए सरकार के दौरान राष्ट्रपति पद संभालने वाली प्रतिभा पाटिल ने राष्ट्रपति भवन में रोजा इफ्तार पार्टी का आयोजन फिर से शुरू किया था। उनके बाद प्रणब मुखर्जी ने भी अपने कार्यकाल के दौरान इस प्रथा को जारी रखा था।