comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गम, गुस्सा और गर्व के साथ देश ने दी पुलवामा के 40 शहीदों को अंतिम विदाई, हर कोने से उठ रही है जवाबी कार्रवाई की मांग

February 17th, 2019 11:00 IST
गम, गुस्सा और गर्व के साथ देश ने दी पुलवामा के 40 शहीदों को अंतिम विदाई, हर कोने से उठ रही है जवाबी कार्रवाई की मांग

हाईलाइट

  • पुलवामा हमले के शहीदों को आज देश दे रहा अंतिम विदाई
  • पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए थे सीआरपीएफ के 40 जवान
  • आर्मी के ट्रकों के जरिए शहीद पार्थिव शरीर उनके गांव-शहरों तक पहुंचाए जा रहे हैं।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा  में आतंकी हमले में शहीद हुए 40 जवानों को देशभर में नम आंखों के साथ शनिवार को अंतिम विदाई दे दी गई। देश के लिए शहादत देने वाले इन जवानों की अंतिम विदाई में जनसैलाब उमड़ा। सभी जवानों के पार्थिव शरीरों को उनके पैतृक गांव और शहर में अंतिम संस्कार किया गया। अलग-अलग राज्यों में केन्द्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री समेत सांसद और विधायक शहीदों को दी जा रही अंतिम विदाई में मौजूद रहे।

शहीदों को अंतिम विदाई :

07.29 PM : कर्नाटक के गुदीगेर, मंड्या में CRPF कॉन्स्टेबल गुरू एच का अंतिम संस्कार।

07.02 PM : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में CRPF अफसरों और उनके परिजनों ने कैंडल मार्च निकालकर दी शहीदों को श्रद्धांजलि।

06.23 PM : कांगड़ा जिले के धेवा गांव में CRPF जवान तिलक राज का अंतिम संस्कार। केन्द्रीय मंत्री जेपी नड्डा और सीएम जयराम रमेश शामिल हुए।

06.06 PM : CRPF हेड कांस्टेबल बबलु संतरा और कॉन्स्टेबल सुदीप बिस्वास के पार्थिव शरीर कोलकाता एयरपोर्ट पर पहुंचे।

05.41 PM : राजौरी में CRPF जवान नसीर अहमद को अंतिम विदाई दी गई। केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह शामिल हुए।

04.47 PM : ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में CRPF हेड कॉन्स्टेबल पीके साहू को दी गई अंतिम विदाई।

04.31 PM : बिहार के रतनपुर, भागलपुर में CRPF कॉन्स्टेबल रतन कुमार ठाकुर को दी गई अंतिम विदाई।

04.08 PM : तमिलनाडु के कोविल पत्ती, तुतीकोरिन में CRPF कॉन्स्टेबल सुब्रमण्यन का अंतिम संस्कार।

  • सर्वदलीय बैठक के दौरान एक स्वर में सभी दलों के नेताओं ने कहा, हम भारतीय सेना के साथ हैं। सेना इस घटना का बदला लेने के लिए जो भी कदम उठाएगी हम उसमें उनके साथ खड़े हैं। 
  • सर्वदलीय बैठक से पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर बड़ी बैठक चल रही है।
  • इस बैठक में गृह सचिव राजीव बाबा के साथ गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी भी शामिल हैं।
  • बैठक में गृह सचिव राजीव गौबा उस रिपोर्ट से गृहमंत्री को अवगत करा रहे हैं, जो अटैक के बाद सीआरपीएफ ने दी है।
  • मुंबई में पुलवामा हमले के विरोध में ट्रेन रोक दी गई है। यहां नालासोपारा में बड़ी तादाद में लोग रेलवे ट्रैक पर आ गए और ट्रेन रोक दी।
  • उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सीआरपीएफ जवान मोहन लाल की शहादत को सलाम किया।
  • सीआरपीएफ में ASI रहे मोहन लाल के पार्थिव शरीर को नमन करने बीजेपी समेत कांग्रेस नेता और बड़े अधिकारी भी पहुंचे।
  • जम्मू-कश्मीर व्यापार और ट्रांसपोटर्स संगठन का आज जम्मू बंद का आह्वान
  • पुलवामा हमला को लेकर सरकार ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई
  • पुलवामा: घटना स्थल पर एनआईए की टीम 
  • मुंबई में पाकिस्तान के खिलाफ स्थानीय लोगों का प्रदर्शन  
     
  • बिहार: CRPF के हेड कॉन्स्टेबल संजय कुमार सिन्हा का पार्थिव शरीर पटना में उनके गांव पहुंचा। वहां भारी संख्या में लोग मौजूद थे।
  • पुलवामा आतंकी हमले में मध्य प्रदेश के शहीद बेटे अश्विनी कुमार का पार्थिव शरीर कटनी पहुंचा। पुलिस कर्मियों ने शहीद को दी श्रद्धाजंलि। थोड़ी देर में शहीद अश्विनी के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव ले जाया जाएगा। 
  • सीआरपीएफ के कांस्टेबल पंकज कुमार त्रिपाठी के अंतिम संस्कार के दृश्य के रूप में उनके शव को महाराजगंज के हरपुर टोला गांव में उनके घर लाया जा रहा है।
  • राजस्थान: सीआरपीएफ के कांस्टेबल रोहताश लांबा के शव को जयपुर जिले के शाहपुरा में उनके जन्म स्थान पर लाया गया। थोड़ी देर में शहीद रोहताश को अंतिम विदाई दी जाएगी।
  • शहीद कांस्टेबल रतन ठाकुर और हेड कांस्टेबल संजय कुमार सिन्हा के पार्थिव शरीर बिहार पहुंच गए हैं। जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
  • सीआरपीएफ जवान मोहन लाल की बेटी ने अपने पिता को अंतिम श्रद्धांजलि दी
  • उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सीआरपीएफ के शहीद जवान एएसआई मोहन लाल को श्रद्धांजलि अर्पित की 
  • सीआरपीएफ के जवान रमेश यादव के पार्थिव शरीर को वाराणसी में उनके पैतृक गांव तोफापुर लाया गया है।
  • सीआरपीएफ के जवान रोहिताश लांबा के पार्थिव शरीर को जयपुर उनके पैतृक निवास गोविंदपुरा लाया गया है।
  • राजधानी दिल्ली में शहीदों को दिया गया अंतिम सम्मान 
  • दिल्ली के पालम एयरपोर्ट से शहीदों के पार्थिव शरीर उनके गांव के लिए रवाना किए गए

कमेंट करें
hIljT
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।