दैनिक भास्कर हिंदी: पंजाब सरकार का केंद्र को प्रस्ताव, ड्रग स्मगलर्स को मिले फांसी की सजा

July 2nd, 2018

हाईलाइट

  • ड्रग स्मगलर्स पर लगाम लगाने के लिए पंजाब की अमरिंदर सरकार ने केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है।
  • इस प्रस्ताव में कहा गया है कि ड्रग स्मगलिंग करने वालों को फांसी की सजा दी जाए।
  • नशामुक्त पंजाब के संकल्प पर कायम है सीएम अमरिंदर सिंह।

डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। ड्रग स्मगलर्स पर लगाम लगाने के लिए पंजाब की अमरिंदर सरकार ने केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि ड्रग स्मगलिंग करने वालों को फांसी की सजा दी जाए। सोमवार को पंजाब कैबिनेट की तरफ से पास किए इस प्रस्ताव पर अगर केंद्र मुहर लगा देता है तो फिर उम्मीद की जा रही है कि इससे नशे के कारोबारियों पर नकेल कसी जा सकेगी। बता दें कि पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ के सिविल सचिवालय में सोमवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में सीएम अमरिंदर सिंह के साथ कई पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे।

नशामुक्त पंजाब के संकल्प पर कायम
कैबिनेट के इस फैसले के बाद सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा, ड्रग तस्करों ने पंजाब में युवाओं का भविष्य बर्बाद कर दिया है। ये पूरी पीड़ियों को तबाह कर रहे हैं। इसीलिए हमने तय किया है कि ड्रग तस्करों को फांसी की सजा दी जाए। ये प्रस्ताव केंद्र के पास भेज दिया गया है। वहीं उन्होंने कहा कि मैं अपने नशामुक्त पंजाब के संकल्प पर कायम हूं। इससे पहले पंजाब सरकार ने एक फैसले में हथियार का लाइसेंस लेने के लिए लोगों को डोप टेस्ट करवाना जरूरी कर दिया था। सरकार का इसके पीछे मकसद यह पता लगाना था कि हथियार का लाइसेंस लेने वाले कहीं कोई नशा तो नहीं करते। पंजाब सरकार की तरफ से ये भी कहा गया था कि अगर डोप टेस्ट में नशे की मात्रा पाई गई तो पंजाब में जीवन भर हथियार के लाइसेंस से वंचित रहना पड़ेगा।

 

 


इसी मुद्दे को उठाकर कांग्रेस ने जीता था चुनाव
बता दें कि पंजाब में ड्रग्स बेहद गंभीर समस्या है। यह समस्या कितनी गहरी है इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि बॉलीवुड में इस विषय पर एक फिल्म भी बन चुकी है। इस फिल्म का नाम उड़ता पंजाब था। वहीं नशे के मुद्दे को लेकर पंजाब विधानसभा चुनाव में बीजेपी-शिरोमणि अकाली दल को हराकार कांग्रेस पार्टी ने सत्ता हासिल की थी। कांग्रेस ने वादा किया था कि वह राज्य को नशामुक्त करेगी।