comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

बालाकोट में फिर एक्टिव हुए ट्रेनिंग कैंप, 500 आतंकी घुसपैठ की फिराक में, सेना अलर्ट पर

September 24th, 2019 09:24 IST

हाईलाइट

  • पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकवादी ट्रेनिंग कैंप को फिर से एक्टिव कर दिया
  • करीब 500 आतंकी भारत में घुसपैठ करने की फिराक में है
  • जानकारी के सामने आने के बाद सेना हाई अलर्ट पर है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पाकिस्तान ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद आतंकवादी ट्रेनिंग कैंप को 'हाल ही में' फिर से सक्रिय कर दिया है। करीब 500 आतंकी भारत में घुसपैठ करने की फिराक में है। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सोमवार को चेन्नई में अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी में ये बात कही। इस जानकारी के सामने आने के बाद सेना हाई अलर्ट पर है और उसे किसी भी सुरक्षा चुनौती से 'प्रभावी ढंग से' निपटने की पूरी आजादी दी गई है।

बालाकोट आतंकी ट्रेनिंग कैंप
बालाकोट पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के मनसेहरा जिले में है, जो एबटाबाद से 63 किमी उत्तर में है, जहां मई 2011 में संयुक्त राज्य की विशेष सेना ने ओसामा बिन लादेन को मार गिराया था। यह पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से लगभग 200 किलोमीटर और मुजफ्फराबाद के उत्तर-पश्चिम में 40 किमी दूर है। मुजफ्फराबाद पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) की राजधानी है।

भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में एक पहाड़ी पर मौजूद जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंप को तबाह किया था। भारतीय खुफिया एजेंसियों के एक एक डोजियर के अनुसार, ये कैंप छह एकड़ में फैला था। इस कैंप में करीब 600 आतंकवादियों को आसानी से ट्रेनिंग दी जा सकती थी। डोजियर में जैश कैडरों की सूची भी थी जो कैंप में ट्रेनिंग ले रहे थे। कॉम्प्लेक्स में घूम रहे आतंकवादियों के, उनके व्यायाम कक्ष, गोला बारूद और फायरिंग रेंज आदि के फोटोग्राफिक एविडेंस भी इस डोजियर में है।

जिहादी प्रोजेक्ट का केंद्र है बालाकोट
बालाकोट, और वास्तव में पूरा मानसेहरा जिला, लंबे समय से पाकिस्तानी सुरक्षा प्रतिष्ठान के जिहादी प्रोजेक्ट का केंद्र रहा है। इस क्षेत्र में मस्जिदों और मदरसों की बहुत बड़ी संख्या है। अफगान युद्ध के लिए यहीं पर पहले कैंप की स्थापना की गई थी। बाद में इन कैंपों में कश्मीर में घुसपैठ और आतंकी हमलों के लिए जिहादियों को ट्रेनिंग देना शुरू किया गया।

बालाकोट के करीब गढ़ी हबीबुल्ला है, जहां हिजबुल मुजाहिदीन का ट्रेनिंग कैंप है। 2005 में, मासिक पाकिस्तानी पत्रिका हेराल्ड ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इस रिपोर्ट में मानसेहरा जिले में विभिन्न जिहादी ट्रेनिंग कैंपों के फिर से शुरू होने के जानकारी दी गई थी। इन कैंपों को संयुक्त राज्य अमेरिका में 11 सितंबर, 2001 के आतंकवादी हमलों के बाद कुछ वर्षों तक बंद कर दिया गया था।

जैश गतिविधियों का नर्व सेंटर
भारतीय वायुसेना की स्ट्राइक के बाद अपनी मीडिया ब्रीफिंग में, विदेश सचिव विजय गोखले ने उल्लेख किया था कि जैश प्रमुख मसूद अजहर ने बालाकोट आतंकी ट्रेनिंग कैंप की देखरेख की जिम्मेदारी अपने बहनोई यूसुफ जौहर को दी थी। मसूद अजहर अपने परिवार के सदस्यों के बीच आतंकवाद के व्यापक साम्राज्य में ‘पोर्टफोलियो’ बांटकर काम करता है।

जैश के इंडियन डोजियर में यूसुफ अज़हर की तस्वीरें हैं, और उस वाहन की भी तस्वीरें है जिसका उपयोग वह रोजाना ट्रेनिंग ग्राउंड और बालाकोट की फायरिंग रेंज पर जाने के लिए करता है। इंडियन इंटेलिजेंस की जानकारी के अनुसार, 1 अप्रैल, 2018 को बालाकोट में आतंकवादी भर्तियों के 'पासिंग आउट' में मसूद अजहर का भाई अब्दुल रऊफ असगर ने भी भाग लिया था।'

जैश के लिए बालाकोट का क्या है महत्व?
जैश के लिए बालकोट का बहुत प्रतीकात्मक महत्व है। इस जगह पर सैयद अहमद शहीद और उसके सहयोगी शाह इस्माइल शहीद को दफन किया गया था। मई 1831 में सिख सम्राट महाराजा रणजीत सिंह की सेना के खिलाफ लड़ते हुए दोनो मारे गए थे। बालाकोट में जैश प्रशिक्षण शिविर का नाम सैयद अहमद शहीद के नाम पर रखा गया है।

भारतीय खुफिया विभाग का मानना ​​है कि मसूद अजहर के दो भतीजों ताल्हा रशीद और उस्मान हैदर के मारे जाने के बाद जैश के सैयद अहमद शहीद ट्रेनिंग कैंप के अंदर की गतिविधियां और ज्यादा संगठित हो गईं। कैंपों में बड़ी संख्या में आतंकियों को ट्रेनिंग दी जाने लगी।

ताल्हा रशीद अज़हर के बहनोई अब्दुल रशीद का बेटा था। भारतीय सुरक्षा बलों ने 2017 में पुलवामा में एक मुठभेड़ के दौरान ताल्हा को मार गिराया था।

जबकि अजहर के दूसरे भतीजे उस्मान हैदर को अक्टूबर 2018 में त्राल में ढेर कर दिया गया था। उस्मान IC-814 के अपहर्ताओं में से एक था। वह इब्राहिम अजहर का बेटा था। लगभग दो दशक पहले भारतीय जेल में बंद मसूद अजहर को रिहा करवाने के लिए IC-814 को हाईजैक किया किया गया था।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान ने बहावलपुर में जैश के मुख्यालय को खाली करवा दिया था। बड़ी संख्या में आतंकवादी कैडरों को बालाकोट ट्रेनिंग कैंप में शिफ्ट कर दिया गया था। पुलवामा हमले के जवाब में इस साल फरवरी में भारतीय वायुसेना ने एयरस्ट्राइक कर इन कैंपों को तबाह किया था। 

कमेंट करें
fSei5
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।