comScore

नाबालिग बच्चों के हाथों में वाहन देने वाले पैरेंट्स के खिलाफ कार्रवाई

नाबालिग बच्चों के हाथों में वाहन देने वाले पैरेंट्स के खिलाफ कार्रवाई

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  नाबालिग बच्चों के हाथों में वाहन देकर दुर्घटनाओं को आमंत्रित करने वाले पैरेंट्स के खिलाफ ट्रैफिक पुलिस ने कार्रवाई की। शहर में लगातार हो रही दुर्घटनाओं को ध्यान में रखते हुए शहर पुलिस यातायात विभाग ने  जांच मुहिम चलाई। शहर के विभिन्न महाविद्यालयों के पास कुल 261 नाबालिग छात्रों को पकड़ कर उनके माता-पिता पर मोटर वाहन अधिनियम अंतर्गत कार्रवाई की गई है। कार्रवाई पुलिस आयुक्त डॉ. भूषण कुमार उपाध्याय के मार्गदर्शन में की गई। 

जंप करते हैं सिग्नल
उल्लेखनीय है कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों को लाइसेंस जारी नहीं किया जाता है। इसके बावजूद महाविद्यालय, स्कूल, कोचिंग में जानेवाले नाबालिग बच्चों को माता-पिता मोटरसाइकिल देते हैं, जिससे बच्चे ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ट्रिपल सीट वाहन चलाते हैं, सिग्नल जंप करते रहते हैं। इससे एक तरफ ट्रैफिक व्यवस्था बिगड़ती है, वहीं दूसरी तरफ दुर्घटनाओं का प्रमाण भी बढ़ रहा है। बच्चों के साथ-साथ सड़क से चलनेवाले अन्य वाहनधारकों की जान भी खतरे में पड़ रही है। 

पालकों को बुलाया गया थाने

शहर के लॉ कॉलेज, धनवटे नेशनल कॉलेज, जीएस कॉलेज, शिवाजी साइंस महाविद्यालय आदि के आस-पास 10 से ज्यादा यातायात पुलिस ने बिना लाइसेंस गाड़ी चलानेवाले 261 बच्चों को पकड़ा। इसमें ट्रिपल सीट गाड़ी चलानेवालों से लेकर वाहनों के दस्तावेज नहीं रखनेवालों का सामावेश था। इन सभी बच्चों के माता-पिता को थाने में बुलाकर उन पर कार्रवाई की गई। इसके अलावा स्कूल, कॉलेज में जाकर टीम ने इस संबंध में जनजागृति भी की। पुलिस उपायुक्त चिन्मय पंडित के नेतृत्व में इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। 

उल्लेखनीय है कि शहर में कई जगहों पर नाबालिग बच्चों को वाहन चलाते व इस पर स्टंटबाजी करते हुए देखा जाता है। कई बार ये स्टंट इतने खतरनाक होते हैं कि गंभीर दुर्घटना भी हो जाती है। नाबालिगों की स्टंटबाजी रोकने व दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने ट्रैफिक पुलिस ने उपरोक्त मुहिम चलाई है।
 

 

 

 
 

कमेंट करें
W7HtD