comScore

 फूड पॉइजनिंग : छात्रावास की 17 छात्राओं की बिगड़ी हालत,मामले की होगी जांच

 फूड पॉइजनिंग : छात्रावास की 17 छात्राओं की बिगड़ी हालत,मामले की होगी जांच

डिजिटल डेस्क, छिंदवाड़ा/परासिया। परासिया के मोरडोंगरी कन्या छात्रावास की 17 छात्राएं  फूड पॉइजनिंग की शिकार हो गई। छात्रावास में बना खाना खाकर स्कूल गई छात्राओं में से 17 बच्चियों को पेट दर्द और उल्टियां होने लगी। जिन्हें शाम को परासिया अस्पताल लाया गया। इनमें से 14 बच्चियों की हालत गंभीर होने पर उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया। इनमें से 9 छात्राओं की हालत में सुधार न होने पर चिकित्सकों ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया था। छात्राओं ने बताया किपिछली शाम को छात्रावास में बनी लौकी की सब्जी, रोटी और दाल-चावल खाने के बाद वे स्कूल चली गई थी। दोपहर बाद उन्हें पेट दर्द के साथ उल्टियां होने लगी। शिक्षकों को बताने के बाद उन्होंने सभी 17 बच्चियों को इलाज के लिए परासिया अस्पताल लाया। यहां बच्चियों का इलाज जारी है। इनमें से 9 बच्चियों को रात लगभग 9 बजे 108 एम्बुलेंस से जिला अस्पताल लाकर भर्ती कराया गया।

अस्पताल पहुंचा प्रशासनिक अमला
छात्रावास की बच्चियों के बीमार होने की सूचना मिलने पर एसडीएम राजेश शाही अन्य अधिकारियों के साथ परासिया अस्पताल पहुंचे। चिकित्सकों से बच्चों को बेहतर इलाज देने कहा गया और जिन बच्चों की हालत में सुधार नहीं हो रहा था उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया। सूचना मिलने पर डीएसपी डॉ. अरविंद, टीआई अनिल सिंह, बीआरसी संतोष डेहरिया भी अस्पताल पहुंचे।

ये छात्राएं हुई बीमार 
बीमार 17 छात्राओं में 12 वर्षीय खुशी पिता सुनील धुर्वे, गौरी पिता बालम राजभोपा, बुधनी पिता मनीलाल राजभोपा, प्रमिला पिता देवी सिंह राजभोपा, विसनी पिता बलीराम बनके, चंपा पिता मुन्ना बनके, निशा पिता अज्जू सीलू,  निशा पिता सतीश युवनाती, लक्ष्मी पिता मंगल उइके को जिला अस्पताल रेफर किया गया। वहीं सविता देवला, रूकमणी बलीराम, भारती सरवन नागवंशी, शबनम दिनेश अहके, प्रिंयका मुकेश कनौजिया, लक्ष्मी मंगल अहके,  ईश्वरवती हरतू अहके, राजकुमारी रतन को परासिया अस्पताल में इलाज दिया जा रहा है। 

इनका कहना है... 
रोजाना की तरह छात्रावास में बना भोजन सभी छात्राओं ने किया और वे स्कूल चली गई। इनमें से कुछ छात्राओं को पेट दर्द और उल्टियां होने लगी। बीमार बच्चों को अस्पताल लाकर भर्ती कराया गया है।- आरती वर्मा, अधीक्षक, कन्या छात्रावास मोरडोंगरी

- बच्चे फूड पॉइजनिंग का शिकार हुए है जिनका इलाज चल रहा है। मामले की जांच कराई जाएगी। यदि लापरवाही सामने आती है तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 
  संतोष डेहरिया, बीआरसी, परासिया

कमेंट करें
Uwhd0