comScore

बल्ला विवाद: कैलाश विजयवर्गीय बोले- कमिश्नर और आकाश कच्चे खिलाड़ी


हाईलाइट

  • आकाश और निगम कमिश्नर को बताया कच्चा खिलाड़ी- कैलाश विजयवर्गीय
  • बल्ला विवाद को बताया दुर्भाग्यपूर्ण घटना- कैलाश विजयवर्गीय
  • अधिकारियों को अंहकारी नहीं होना चाहिए- कैलाश विजयवर्गीय

डिजिटल डेस्क, इंदौर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को कच्चा खिलाड़ी बताया है। कैलाश ने कहा, ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। मुझे लगता है कि आकाश और नगर निगम कमिश्नर दोनों ही अभी कच्चे खिलाड़ी हैं। यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं थी, लेकिन इसे बहुत बड़ा बना दिया गया। मुझे लगता है कि अधिकारियों को इतना अंहकारी नहीं होना चाहिए। मैं खुद महापौर के पद पर रहा हूं निगम की कार्रवाई को अच्छी तरह से समझता हूं। 

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए। मैं इस घटना में इसकी कमी देखता हूं। ऐसी घटना दोबारा न हो, दोनों पक्षों को यह बात समझनी चाहिए। मैं एक बार पार्षद, महापौर और विभाग का मंत्री था। बारिश के दौरान हम किसी भी आवासीय इमारत को ध्‍वस्‍त नहीं करते हैं। मुझे यह जानकारी नहीं है कि ऐसा आदेश किसने जारी किया। यदि सरकार ने यह आदेश जारी किया तो यह उसकी गलती है। 

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, यदि किसी इमारत को ध्वस्त किया जा रहा है, तो निवासियों के लिए एक 'धर्मशाला' में रहने की व्यवस्था की जाती है, लेकिन ये नगर निगम का दुर्व्यवहार था। महिला स्टाफ और महिला पुलिस होनी चाहिए थी। यह अपरिपक्व था। ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए।

बता दें कि 26 जून को बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर में एक जर्जर मकान को तोड़ने आए नगर निगम के अमले की कार्रवाई पर भड़क गए। उन्होंने क्रिकेट के बल्ले से नगर निगम के एक अफसरों की पिटाई कर दी। इसके बाद उन्हें इस मामले में जेल जाना पड़ा। रविवार को आकाश जमानत पर रिहा हुए हैं। 

कमेंट करें
nDWgO