comScore

इस लोकसभा सीट पर मतपत्र के जरिए वोट डालने की कवायद, मैदान में हैं 185 उम्मीदवार

इस लोकसभा सीट पर मतपत्र के जरिए वोट डालने की कवायद, मैदान में हैं 185 उम्मीदवार

डिजिटल डेस्क, आसिफाबाद। लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां और प्रशासन की तैयारी चरम पर है। इस दौरान जगह-जगह इस बार ईवीएम के साथ वीवीपैट भी पहुंच रहे हैं। चुनाव में पारदर्शिता लाने के प्रयास जारी हैं ऐसे में निर्वाचन आयोग ने तेलंगाना के मुख्य चुनाव अधिकारी को निजामाबाद निर्वाचन क्षेत्र में ईवीएम की जगह मतपत्र के इस्तेमाल के लिए इंतजाम करने को कहा। इस सीट पर 170 से अधिक किसानों सहित कुल 185 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। प्रशासन के आदेश से इस निर्वाचन क्षेत्र पर सभी की निगाहें टिकी हुई है।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को पहले चरण के लिए नाम वापस लेने की समय सीमा समाप्त होने के बाद तेलंगाना में कुल 443 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं। इनमें से सबसे अधिक 185 उम्मीदवार निजामाबाद में हैं। ईवीएम में जितने उम्मीदवारों के नाम समायोजित हो सकते हैं, उससे अधिक संख्या में उम्मीदवार होने के चलते तेलंगाना के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने पहले कहा था कि चुनाव मतपत्र से कराए जाएंगे और मामले को मंजूरी के लिए चुनाव आयोग को भेजा जाएगा।

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, आयोग ने मेसर्स ईसीआईएल को सीईओ तेलंगाना को 26820 बीयू, 2240 सीयू और 2600 वीवीपैट (तीसरी पीढ़ी की) की तत्काल आपूर्ति करने के आदेश जारी किए हैं। किसानों ने हल्दी और लाल ज्वार के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करने में सत्ताधारी टीआरएस के कथित रूप से असफल रहने का विरोध करते हुए निजामाबाद से अपने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। यहां से मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की पुत्री के. कविता फिर से चुनाव लड़ रही हैं। तेलंगाना में लोकसभा की 17 सीटें हैं। यहां 11 अप्रैल को पहले चरण में वोट डाले जाएंगे।

बता दें कि मतपत्रों के जरिए चुनाव कराना काफी मुश्किल भरा है। इतने कम समय में बैलट पेपर छपवाने से लेकर उसके रखरखाव की तमाम जिम्मेदारियां काफी अहम हो जाती है। ऐसे में जरा सी चूक हुई नहीं कि माडिया और सियासी हलकों में बावेला होते देर नहीं लगता।

कमेंट करें
P092Y