comScore

क्र‍िएटिव आजादी का समर्थन करते थे अरुण जेटली, कंट्रोवर्सी में फसने पर इस फिल्म के लिए लड़ा था केस

क्र‍िएटिव आजादी का समर्थन करते थे अरुण जेटली, कंट्रोवर्सी में फसने पर इस फिल्म के लिए लड़ा था केस

डिजिटल डेस्क, मुम्बई। बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का शनिवार को निधन हो गया। दिल्ली के AIIMS में जेटली ने अंतिम सांस ली। जेटली लंबे समय से बीमार थे। 9 अगस्त से वह दिल्ली AIIMS में भर्ती थे। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। जेटली के निधन की खबर से पूरे देश में शोक की लहर है। बॉलीवुड के कई सितारों ने अपने चहेते नेता को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी है। हालही में फिल्म प्रोड्यूसर शीतल तलवार ने उनसे जुड़े पुराने दिनों को याद किया।

हालही में एक इंटरव्यू में प्रोड्यूसर शीतल तलवार ने बताया कि कैसे अरुण जेटली ने हमारी फिल्म रण के लिए कोर्ट में केस लड़ा था। रण में अमिताभ बच्चन हीरो थे। शीतल ने बताया कि फिल्म रण का पहला प्रोमो रिलीज होते ही रामगोपाल वर्मा कंट्रोवर्सी में आ गए थे। इसकी वजह थी प्रोमो में सामने आया गाना। इस गाने के बोल नेशनल एंथम में बदलाव करते हुए जन गण रन लिखे गए थे। गाने की ट्यून भी नेशनल एंथम जैसी रखी गई थी। इस प्रोमो के आते ही सेंसर बोर्ड ने डायरेक्टर को बैन कर दिया था।


इस फिल्म के बारे में हमने अरुण जेटली से बात की। मैं और रामगोपाल वर्मा जेटली से प्रोफेशनल एडवाइज लेने गए। उस समय जेटली ने आसानी से हमारा केस ले लिया और कहा कि मैं ये तो नहीं कह सकता हूं कि क्या होगा आगे, लेकिन मैं अपना बेस्ट दूंगा। उन्होंने बताया कि आपको अभिव्यक्ति की आजादी है। 

जेटली जी एक कलाकार की क्र‍िएटिव आजादी का पूरा समर्थन करते थे। वे एक शानदार वकील थे। उनके द्वारा दिए ​तथ्य बहुत ही लॉजिकल होते थे। यह हमारा दुर्भाग्य था कि हम केस हार गए, लेकिन इस बात को हम कभी नहीं भूल सकते कि जेटली ने बतौर वकील हमारा केस लड़ा। बता दें फिल्म रण साल 2010 में आई थी। ​इस फिल्म में अमिताभ बच्चन, रितेश देशमुख, गुल पनाग, परेश रावल, सुदीप मुख्य भूमिका में थे। 

कमेंट करें
RGdlK