comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

इंजीनियर नीतीश सोशल इंजीनियरिंग में महारथ हासिल कर पाते रहे सत्ता

November 16th, 2020 17:31 IST
 इंजीनियर नीतीश सोशल इंजीनियरिंग में महारथ हासिल कर पाते रहे सत्ता

हाईलाइट

  • इंजीनियर नीतीश सोशल इंजीनियरिंग में महारथ हासिल कर पाते रहे सत्ता

पटना, 16 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के नालंदा जिले के कल्याणबिगहा का मुन्ना और अब नीतीश कुमार ने सोमवार को सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। कहा जाता है कि इंजीनियरिंग की शिक्षा प्राप्त करने वाले नीतीश कुमार सोशल इंजीनियरिंग को दुरूस्त कर सत्ता तक पहुंचते रहे।

नीतीश को जानने वाले लोगों का कहना है कि उनकी जैसे-जैसे उम्र बढ़ती गई, राजनीति और समाजसेवा में उनका रूझान बढ़ता गया। राममनोहर लोहिया, कर्पूरी ठाकुर जैसे नेताओं को आदर्श मानने वाले बिहार में 15 वर्ष पूर्व लालू की सरकार को हटाकर सत्ता पर काबिज होना आसान नहीं था, लेकिन नीतीश ने अपनी सधी हुई राजनीति से लालू को सत्ता से हटाया।

न्याय के साथ सुशासन का राज्य स्थापित करने की ओर नीतीश के बढ़ते कदम के कारण उनके चाहने वाले लोगों ने उन्हें सुशासन बाबू का नाम दिया। नीतीश ने भी अपना मूलमंत्र न्याय के साथ विकास को बनाया।

नीतीश सोमवार को बिहार की सातवीं बार कमान संभालेंगे। नीतीश इसके पहले तीन मार्च 2000 से 10 मार्च 2000 तक, 24 नवंबर 2005 से 24 नवंबर 2010 तक, 26 नवंबर 2010 से 17 मई 2014 तक, 22 फरवरी 2015 से 19 नवंबर 2015 तक, 20 नवंबर 2015 से 26 जुलाई 2017 तक तथा 27 जुलाई 2017 से अब तक बिहार की कमान संभाल चुके हैं।

1 मार्च 1951 को स्वतंत्रता सेनानी कविराज रामलखन सिंह और परमेश्वरी देवी के घर जन्मे नीतीश की उम्र जैसे-जैसे बढ़ती गई उनका झुकाव राजनीति की ओर बढ़ते गया। पटना के बख्तियारपुर में प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने वाले नीतीश वर्ष 1974 में जयप्रकाश नारायण के आंदोलन से जुड़े और उसी वर्ष आंतरिक सुरक्षा अधिनियम (मीसा) के तहत उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

वर्ष 1975 में आपातकाल के दौरान उन्होंने समता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

नीतीश ने बिहार अभियांत्रिकी महाविद्यालय से विद्युत अभियांत्रिकी में उपाधि हासिल की। 1985 में पहली बार बिहार विधानसभा की सीढ़ियों पर बतौर विधायक कदम रखा। 1987 में वे युवा लोकदल के अध्यक्ष बने तथा 1989 में उन्हें बिहार में जनता दल का सचिव चुना गया।

इस क्रम में वर्ष 1989 में ही नीतीश नौवीं लोकसभा के सदस्य भी चुने गए। अब तक नीतीश की देश में सफल नेता के रूप में पहचान बन गई थी। यही कारण है कि वर्ष 1990 में पहली बार उन्हें केन्द्रीय मंत्रिमंडल में बतौर कृषि राज्यमंत्री शामिल किया गया। वर्ष 1991 में वे एक बार फिर लोकसभा के लिए चुने गए और उन्हें जनता दल का राष्ट्रीय सचिव तथा संसद में जनता दल का उपनेता बनाया गया।

बिहार के बाढ़ संसदीय क्षेत्र का नीतीश ने वर्ष 1989 और वर्ष 2000 में प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1998-1999 में कुछ समय के लिए नीतीश को केन्द्रीय रेल एवं भूतल परिवहन मंत्री का दायित्व भी सौंपा गया, लेकिन अगस्त 1999 में हुए एक रेल दुर्घटना के बाद उन्होंने मंत्रीपद से इस्तीफा दे दिया।

नीतीश ने तीन मार्च 2000 को बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, लेकिन उन्हें सिर्फ सात दिन के अंदर ही त्याग पत्र देना पड़ा।

इसके बाद नीतीश की काबलियत को देखते हुए उन्हें एक बार फि र केन्द्रीय कृषि मंत्री का दायित्व सौंपा गया। मई 2001 से 2004 तक उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केन्द्रीय रेल मंत्री का भी दायित्व संभाला। रेल मंत्री के तौर पर नीतीश के लिए गए फैसलों को लोग आज भी याद करते हैं।

24 नवंबर, 2005 को नीतीश दूसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बने। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के 15 वर्ष के शासनकाल को अपनी साफ - सुथरी छवि से धाराशायी करना आसान नहीं था, लेकिन बिहार के मतदाताओं को नीतीश में दृढ़ इच्छाशक्ति और बेदाग छवि पसंद आई।

इसके बाद अपने विकास मॉडल के कारण नीतीश कुमार की पहचान विश्वस्तर पर बनी। बिहार की राजनीति में नीतीश कुमार ने विकास को अपना एजेंडा बनाया। वर्ष 2010 में विशाल बहुमत से जीतकर बिहार की बागडोर संभालने वाले नीतीश ने 2014 में लोकसभा चुनाव में मिली पार्टी की करारी हार के बाद मुख्यमंत्री पद से इस्तीफो दे दिया, लेकिन 22 फरवरी 2015 के एकबार फि र मुख्यमंत्री बने।

इसके बाद नीतीश अपने काम के आधार पर विधानसभा चुनाव में उतरे और महागठबंधन में राजद के साथ चुनावी मैदान में उतरे और सफ लता प्राप्त की, लेकिन बीच में ही राजद से खटपट के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफो दे दिया। इसके बाद जदयू और भाजपा ने मिलकर सरकार बनाई और नीतीश ने फि र से 27 जुलाई 2017 को मुख्यमंत्री की शपथ ली। इसके बाद सोमवार को राजग के विजय होने के बाद सातवीं बार नीतीश फि र से मुख्यमंत्री बन गए।

राजग में शामिल घटक दल जनता दल (युनाइटेड), भाजपा, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और विाकसशील इंसान पार्टी (वीआईपी) ने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया और राजग को जीत मिली।

एमएनपी-एसकेपी

कमेंट करें
EO7gU
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।