दैनिक भास्कर हिंदी: चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को लगा बड़ा झटका, लगभग 200 नेता जेडीयू में शामिल हुए

February 18th, 2021

डिजिटल डेस्क, पटना। चिराग पासवान के नेतृत्व वाली लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) को गुरुवार को बिहार में एक बड़ा झटका लगा।  उसके लगभग 200 वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अपने पूर्व राज्य महासचिव केशव सिंह के नेतृत्व में पार्टी छोड़ दी और सत्तारूढ़ जद (यू) में शामिल हो गए। असंतुष्ट लोजपा नेताओं ने जद (यू) के राज्य कार्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य आरसीपी सिंह की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली।

इससे पहले बुधवार को, लोजपा के वरिष्ठ नेता रामेश्वर चौरसिया, जिन्होंने सासाराम निर्वाचन क्षेत्र से 2020 का विधानसभा चुनाव लड़ा, ने पार्टी छोड़ दी। पूर्व विधायक चौरसिया पहले भाजपा के साथ थे और उन्होंने भाजपा के टिकट पर नोखा विधानसभा सीट तीन बार जीती थी। बीजेपी ने इस बार उन्हें चुनाव में टिकट नहीं दिया था जिस वजह से वे  विधानसभा चुनाव से ठीक पहले लोजपा में शामिल हो गए थे।

गुरुवार को जद (यू) में शामिल होने वाले अन्य प्रमुख लोजपा नेता, रामनाथ रमन, दीनानाथ क्रांति, एमडी एजाज़, श्रम सेल के प्रदेश अध्यक्ष कौशल सिंह कुशवाहा, ईबीसी सेल के पूर्व स्टेट प्रेसिडेंट पारसनाथ गुप्ता और सुभाष पासवान है। अपनी पार्टी में एलजेपी नेताओं का स्वागत करते हुए, आरसीपी सिंह ने कहा, 'जेडी (यू) देश में समाजवादी विचारधारा की एकमात्र पार्टी है जिसमें भाई-भतीजावाद और वंशवाद की राजनीति के लिए कोई जगह नहीं है।' 

उन्होंने कहा, 'यदि किसी व्यक्ति में योग्यता और क्षमता है और वह कड़ी मेहनत भी करता है, तो वह जद (यू) में किसी भी स्तर तक पहुंच सकता है। पार्टी में भाई-भतीजावाद की कोई गुंजाइश नहीं है। आरसीपी ने यह भी कहा कि पार्टी के नेता और बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने अपने अच्छे कामों से बिहार को एक नई पहचान दी। नीतीश कुमार का एकमात्र 'धर्म' आम लोगों की सेवा करना है। पूरा बिहार उनका परिवार है।

JD (U) के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा और पार्टी के प्रदेश महासचिव अनिल कुमार ने भी LJP नेताओं का JD (U) में स्वागत किया।

खबरें और भी हैं...