सीएम चेहरा: राजस्थान बसपा आलाकमान द्वारा तय मुख्यमंत्री को करेगी स्वीकार

September 23rd, 2022

हाईलाइट

  • चेहरे का नहीं बल्कि पार्टी का समर्थन करेंगे जी-6

डिजिटल डेस्क, जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष बनने और मुख्यमंत्री पद छोड़ने के संकेतों के बाद राजस्थान में सियासी हलचल तेज हो गई है। बसपा से कांग्रेस में आए छह विधायकों ने सीएम चेहरा बदले जाने पर अपने पुराने रुख में बदलाव के संकेत दिए हैं। बसपा के एमएलए गहलोत के करीबी माने जाते हैं।

सचिन पायलट या किसी अन्य को सीएम बनाने के सवाल पर गहलोत समर्थक माने जाने वाले ग्रामीण विकास राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने कहा है कि वे पार्टी आलाकमान के साथ हैं और उनके निर्देश का पालन करेंगे।

गुढ़ा ने बातचीत में कहा, आलाकमान द्वारा किसी को भी सीएम बनाया जाना स्वीकार्य है। हम सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा के फैसले के साथ हैं। भले ही भरोसी लाल जाटव को सीएम बनाया जाए, फिर भी हम साथ हैं।

अगले सीएम के चयन पर अशोक गहलोत के बयान से अलग विचार पेश करते हुए, गुढ़ा ने कहा, कांग्रेस में जो भी निर्णय लिए जाते हैं, आलाकमान का निर्णय मान्य होता है। हम कांग्रेस के सदस्य हैं। हमारी कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी जो भी निर्णय लेंगे, हम उसे स्वीकार करेंगे। जहां तक मुझे पता है कि इसमें कोई अगर या मगर नहीं है। दिल्ली द्वारा लिया गया निर्णय मान्य होगा।

मंत्री ने कहा, हम दो बार सरकार में रहे हैं। जो फैसला आलाकमान ने लिया है, मेरी जानकारी के मुताबिक सभी विधायक इसे मानेंगे। अगर सोनिया गांधी भरोसी लाल जाटव को मुख्यमंत्री बना देंगी, तब भी हम साथ हैं, जो लोग देख रहे हैं कि अशोक गहलोत राष्ट्रीय अध्यक्ष बन रहे हैं, उन्हें इस मामले में हर चीज के बारे में ज्यादा पता है। इस मामले में बड़े नेता जो भी करेंगे, समझ के साथ करेंगे, हम उनके साथ हैं।

गुढ़ा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान से अलग लाइन लेकर राजनीतिक संदेश दिया है। गुढ़ा ने साफ संकेत दिया है कि जी-6 से जुड़े विधायक किसी चेहरे का नहीं बल्कि पार्टी का समर्थन करेंगे।

 

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

खबरें और भी हैं...