अफगानिस्तान: संयुक्त राष्ट्र सत्र में प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएगा तालिबान

September 23rd, 2021

हाईलाइट

  • संयुक्त राष्ट्र सत्र में प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएगा तालिबान

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अफगानिस्तान के नए तालिबान शासकों के संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के मौजूदा सत्र में बोलने या अपने देश का प्रतिनिधित्व करने की संभावना नहीं है। पूर्व अफगान सरकार के प्रतिनिधि अभी भी संयुक्त राष्ट्र में अफगान मिशन पर अपना नियंत्रण बनाए हुए हैं। मंगलवार को, वे उस सत्र में शामिल हुए, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने संबोधित किया था। एक राजनयिक सूत्र ने कहा, वे तब तक मिशन पर कब्जा करना जारी रखेंगे, जब तक कि क्रेडेंशियल कमेटी कोई निर्णय नहीं ले लेती।

15 सितंबर को, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस को वर्तमान में मान्यता प्राप्त अफगान राजदूत, गुलाम इसकजई से एक पत्र मिला, जिसमें कहा गया था कि वह और उनकी टीम के अन्य सदस्य यूएनजीए सत्र में अफगानिस्तान का प्रतिनिधित्व करेंगे। 20 सितंबर को, तालिबान-नियंत्रित अफगान विदेश मंत्रालय ने भी गुटेरेस को एक संचार भेजा, जिसमें वर्तमान यूएनजीए में भाग लेने का अनुरोध किया गया था।

तालिबान नेता, अमीर खान मुत्ताकी ने नए अफगान विदेश मंत्री के तौर पर पत्र पर हस्ताक्षर किए। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने न्यूयॉर्क में पत्रकारों से बात करते हुए दोनों पत्र प्राप्त करने की पुष्टि की है। दुजारिक ने कहा कि मुत्ताकी ने पत्र में कहा है कि अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी को 15 अगस्त को बाहर कर दिया गया था और इसलिए उनके राजदूत अब अफगानिस्तान का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, तालिबान को 27 सितंबर तक प्रतिनिधित्व का मौका मिलने की संभावना नहीं है, जब अफगानिस्तान महासभा को संबोधित करने वाला है। इसमें कहा गया है कि इस तरह के निर्णय लेने वाली महासभा की नौ सदस्यीय क्रेडेंशियल कमेटी की 27 सितंबर से पहले बैठक होने की संभावना नहीं है। अगर ऐसा होता भी है, तो वह शेष दो या तीन दिनों के अंदर ही मुद्दे को सुलझा नहीं सकती है।

 

(आईएएनएस)