दैनिक भास्कर हिंदी: भारतीय पुरुष हॉकी टीम सेमीफाइनल में पेनल्टी शूट में मलेशिया से हारी, अब ब्रॉन्ज के लिए भिड़ेगी

August 30th, 2018

हाईलाइट

  • भारतीय टीम गुरुवार को सेमीफाइनल में मलेशिया से हार गई।
  • पेनल्टी शूटआउट में भारत को 7-6 की शिकस्त झेलनी पड़ी।
  • भारत अब ब्रॉन्ज के लिए भिड़ेगी।

डिजिटल डेस्क, जकार्ता। भारतीय टीम को जकार्ता में सेमीफाइनल में मलेशिया के हाथों पेनल्टी शूटआउट में 7-6 की शिकस्त झेलनी पड़ी। इसी के साथ भारत एशियन गेम्स में फाइनल के दौर से बाहर हो गयी है। दोनों ही टीमों के बीच एक कड़ा मुकाबला देखने को मिला। दोनों ही टीमों ने काफी तेज खेल दिखाया। फुल टाइम तक दोनों ही टीम 2-2 की बराबरी पर थी। इसके बाद मैच पेनल्टी शूटआउट में चला गया, जिसमें मलेशिया ने सात और भारत छह ही गोल मार सका। भारत की ओर से अंतिम शॉट लेने गए सुनील गोल करने से चूक गए। भारत अब पाकिस्तान और जापान के बीच होने वाले सेमीफाइनल मैच के हारने वाली टीम से ब्रॉन्ज के लिए भिड़ेगी। भारत ने 2014 इंचियॉन एशियन गेम्स में गोल्ड हासिल किया था।

भारतीय टीम को फुलटाइम से पहले की गई गलती भारी पड़ी। पूरे मैच में भारत ने शानदार प्रदर्शन किया। हाफटाइम तक दोनों टीमें गोलरहित थी। दूसरे हाफ के शुरू होते ही भारतीय टीम ने काउंटर अटैक शुरू कर दिया। 40वें मिनट में भारत के हरमनप्रीत सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर पर गोल कर टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। इसके बाद मलेशिया ने काउंटर अटैक पर गोल कर स्कोर 1-1 कर दिया। इसके दो मिनट बाद ही हरमनप्रीत ने गोल कर भारत को एक बार फिर 2-1 की बढ़त दिला दी। पांच मिनट के अंदर दोनों टीमों ने तीन गोल कर दिए। फुल टाइम पूरा होने से करीब दो मिनट पहले मलेशिया को भारत द्वारा किए फाउल पर पेनल्टी कॉर्नर हासिल हुआ। पेनल्टी कॉर्नर पर मो. रहीम ने गोल कर मैच 2-2 की बराबरी पर ला दिया। फुलटाइम होने तक दोनों टीमें 2-2 की बराबरी पर रहीं।

पेनल्टी शूटआउट में गए मैच में भारत और मलेशिया ने पांच शूट में से दो में गोल कर सकी और शूटआउट के खत्म होने पर स्कोर 4-4 रहा। इसके बाद मैच सडन डेथ में चला गया। सडन डेथ में दोनों ही टीम एक-एक शूट लेगी। यदि इसमें एक टीम ने गोल किया और दूसरी टीम गोल करने से चूक जाती है तो गोल करने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाता है। इसमें मलेशिया ने भारत से बेहतर खेल दिखाते हुए भारत को एक गोल के अंतर से हरा दिया और मैच 7-6 से जीत लिया।

वर्ल्ड रैंकिंग में पांचवें स्थान पर काबिज भारतीय टीम को 12वें स्थान पर काबिज मलेशिया के खिलाफ प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन नतीजा उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। बता दें कि भारतीय टीम ने अपने सभी पूल मैचों में जीत दर्ज की थी। भारत ने इंडोनेशिया को 17-0 से हराया था। इसके बाद टीम इंडिया ने हांगकांग को भी 26-0 से रौंद दिया था। भारतीय पुरुष हॉकी टीम की हांगकांग के खिलाफ जीत एशियन गेम्स में किसी भी देश के लिए सबसे बड़ी जीत भी है। भारतीय पुरुष हॉकी टीम का एशियन गेम्स में इतिहास शानदार रहा है। भारतीय हॉकी टीम ने 17 एशियन गेम्स में अब तक तीन गोल्ड, नौ सिल्वर और दो ब्रॉन्ज समेत कुल 14 पदक हासिल किए हैं। 
 

खबरें और भी हैं...