comScore

इंग्लैंड ने बांग्लादेश को 106 रनों से हराया, 8 साल बाद टूटा रिकॉर्ड

इंग्लैंड ने बांग्लादेश को 106 रनों से हराया, 8 साल बाद टूटा रिकॉर्ड

हाईलाइट

  • बांग्लादेश-इंग्लैंड के बीच आज खेला जाएगा किक्रेट विश्वकप 2019 का 12 वां मुकाबला
  • बांग्लादेश के खिलाफ इंग्लैंड का सक्सेस रेट 80 प्रतिशत
  • विश्वकप टूर्नामेंट के इतिहास में दोनों के बीच हुए तीन में दो मैंच बांग्लादेश और एक में इंग्लैंड जीता

डिजिटल डेस्क, कार्डिफ। आईसीसी वर्ल्ड कप के 12 वें मैच में इंग्लैंड ने बांग्लादेश को 106 रनों से हरा दिया है। पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश को 387 रनों का टारगेट दिया था। टारगेट पूरा करने उतरी बांग्लादेश की टीम के 6 बल्लेबाज अब तक आउट हो चुके हैं। मोहम्मद सैफुद्दीन और महमूदुल्लाह क्रीज पर खेल रहे हैं तो वहीं 121 रन बनाकर शाकिब अल हसन आउट हो चुके हैं। 

छह विकेट खोकर इंग्लैंड ने 50 ओवर में 386 रन बनाए। टूर्नामेंट के इतिहास में ये टीम का अब तक का सबसे बड़ा स्कोर है। इससे पहले टॉस जीतने के बाद बांग्लादेश ने पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था। पिछला हाईएस्ट स्कोर इंग्लैंड ने भारत के खिलाफ 2011 में खेले गए मैच में 338 रनों का बनाया था।

इंग्लैंड और बांग्लादेश के बीच मैच कार्डिफ के सोफिया गार्डन्स पर खेला जा रहा है। वर्ल्ड कप इतिहास में इंग्लैंड और बांग्लादेश के बीच अब तक 3 मैच हुए हैं। इनमें से इंग्लैंड सिर्फ एक ही जीत पाया है, जबकि बांग्लादेश को 2 मैच में जीत हासिल हुई है। बांग्लादेश के खिलाफ उसे आखिरी जीत 11 अप्रैल 2007 को ब्रिजटाउन के मैदान पर मिली थी। तब उसने बांग्लादेश को 4 विकेट से हराया था। बांग्लादेश ने 2011 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड को 2 विकेट और 2015 में 15 रन से हराया था। 

बांग्लादेश के खिलाफ इंग्लैंड का सक्सेस रेट 80 प्रतिशत रहा है। दोनों के बीच हुए कुल 20 मैचों में 16 में इंग्लैंड और 4 मैच में बांग्लादेश ने जीत हासिल की है। बांग्लादेश को इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी जीत 9 अक्टूबर 2016 को ढाका के मैदान पर मिली थी। तब उसने मेहमान टीम को 34 रन से हराया था। अगर बात की जाए इंग्लैंड के मैदान पर बांग्लादेश के प्रदर्शन की तो यहां 9 साल से बांग्लादेश के हाथ कोई जीत नहीं लगी है। इंग्लैंड ने घरेलू मैदान पर बांग्लादेश के खिलाफ 7 वनडे खेले हैं। इनमें से उसने 6 जीते हैं। एक में उसे हार का सामना करना पड़ा है। बांग्लादेश के खिलाफ घरेलू मैदान पर इंग्लैंड की टीम पहली और आखिरी बार 10 जुलाई 2010 को ब्रिस्टल में हारी थी। तब पाकिस्तान ने उसे 5 रन से हराया था।

इंग्लैंड​​​​​​: बल्लेबाजी मजबूत, गेंदबाजी कमजोर
इंग्लैंड टीम का बैटिंग ऑर्डर मजबूत है। जोस बटलर और जो रुट टीम के लिए रीढ़ की हड्डी का काम कर रहे हैं। विकेटकीपर बल्लेबाज बलटर को 133 वनडे का अनुभव है। उनके 41.97 के औसत और 119.93 के स्ट्राइक रेट से 3652 रन हैं। वहीं जो रूट की बात की जाए तो इंग्लैंड का यह ओपनर टीम को मजबूत शुरुआत देने में सक्षम है। वे इस वर्ल्ड कप में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज हैं। दोनों ही खिलाड़ी का ये दूसरा वर्ल्ड कप है, लेकिन टीम के लिए गेंदबाजी मुसीबत बन सकती है। इंग्लैंड के गेंदबाजों में अनुभव की कमी है। उनका कोई भी गेंदबाज 100 वनडे नहीं खेला है। मार्क वुड ने 41, आदिल रशीद ने 89, लियम प्लंकेट ने 82, टॉम करन ने 17, क्रिस वोक्स ने 89 और आर्चर ने सिर्फ 5 वनडे खेले हैं।

बांग्लादेश:बल्लेबाजी मजबूत, निरंतरता की कमी 
बेशक बांग्लादेश टीम में शानदार और अनुभवी बल्लेबाज हैं। मुशफिकुर रहीम टीम के सबसे अनुभवी बल्लेबाज मुशफिकुर रहीम बांग्लादेशी टीम के ‘संकटमोचक’ माने जाते हैं। वे टीम को मुश्किल परिस्थितियों से निकालकर कई जीत दिला चुके हैं। रहीम ने 207 वनडे में 35.12 के औसत से 5655 रन बनाए हैं। वहीं बात की जाए शाकिब अल हसन की तो वे अपने दम पर मैच जिताने का माद्दा रखते हैं। उन्होंने बांग्लादेश के लिए 200 मुकाबलों में 5856 रन बनाए हैं और 252 विकेट भी लिए हैं, लेकिन बांग्लादेश के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी टीम का कमजोर पक्ष है। उसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपने पहले मैच में 330 रन का स्कोर किया, लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे मैच में वह 244 रन पर ही ऑलआउट हो गई। उसके 7 बल्लेबाज 25 से कम के स्कोर पर आउट हुए। इंग्लैंड के खिलाफ यह गलती उसे भारी पड़ सकती है।

संभावित टीमें
इंग्लैंड : इयॉन मॉर्गन (कप्तान), जो रूट, बेन स्टोक्स, जेसन रॉय, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर (विकेटकीपर), मोइन अली, क्रिस वोक्स, लियम प्लंकेट, जोफ्रा आर्चर, मार्क वुड, जेम्स विंस, आदिल रशीद, टॉम करन, लियम डॉसन।

बांग्लादेश : मशरफे मुर्तजा (कप्तान), लिटन दास, शाकिब अल हसन, मुशफिकुर रहीम (विकेटकीपर), तमीम इकबाल, सौम्या सरकार, शब्बीर रहमान, मेहदी हसन, महमूदुल्लाह, मुस्तफिजुर रहमान,अबु जाएद, मोसादेक हुसैन, रूबेल हुसैन, मोहम्मद सैफुद्दीन, मोहम्मद मिथुन।

कमेंट करें
Jsq6W