दैनिक भास्कर हिंदी: टीम इंडिया को खब्बू फ़ास्ट बॉलर की तलाश

August 22nd, 2017

डिजिटल डेस्क, पल्लेकल। इंडियन क्रिकेट टीम के बॉलिंग आक्रमण को और भी खतरनाक बनाने के लिए बॉलिंग कोच भरत अरुण एक लेफ्ट आर्म फ़ास्ट बॉलर की तलाश कर रहे हैं। अरुण बॉलिंग कोच के रूप में अपने दूसरे कार्यकाल में भारत-ए के मुख्य कोच राहुल द्रविड़ और गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे के साथ बेहतर संवाद और व्यवहार की उम्मीद लगाए हुए हैं।

जहीर के बाद से ही लेफ्ट आर्म फ़ास्ट बॉलर का टोटा

फास्ट बॉलर की बात करें तो जहीर खान के संन्यास लेने के बाद से ही इंडिया टीम के पास लेफ्ट आर्म फ़ास्ट बॉलर नहीं रहा। आशीष नेहरा ने चोट के बावजूद छोटे प्रारूप में अच्छा प्रदर्शन किया, जबकि जयदेव उनादकट के पास तेजी नहीं है। बरिंदर सरां भी प्रभाव नहीं छोड़ पाए, जबकि अनिकेत चौधरी का हाल भी कुछ ऐसा ही है। अरुण ने हार्दिक पंड्या की जमकर तारीफ की जो तेजी से भारत के लिए तेज गेंदबाजी के विश्वसनीय विकल्प बनते जा रहे हैं।

अरुण ने आज यहां पत्रकारों से कहा, 'मैंने फिर से अभी यह पद संभाला है और निश्चित तौर पर हम भारत-ए टीम के कोचों के साथ बात करेंगे। उभरते गेंदबाजों का बेहतर उपयोग करने के लिए जानकारी साझा करना जरुरी है। हमारे पास कुलदीप यादव और यजुवेंद्र चहल जैसे लेग स्पिनर हैं। अगर हमारे पास बाएं हाथ का अच्छा तेज गेंदबाज भी होता है तो यह टीम के लिये अच्छा रहेगा।

अश्विन पर उम्मीदें कायम

उन्होंने कहा कि विश्व कप 2015 के बाद केवल 15 वनडे मैच खेलने के बावजूद रविचंद्रन अश्विन अब भी विश्व कप 2019 के लिए उनकी योजना का हिस्सा हैं। अरुण से पूछा गया कि क्या अश्विन अगले विश्व कप की योजना का हिस्सा हैं, उन्होंने कहा, 'यह सवाल चयनकर्ताओं से किया जाना चाहिए लेकिन गेंदबाजी कोच होने के नाते मुझे लगता है कि वह बेहद प्रतिभाशाली गेंदबाज है। यहां तक कि जो आखिरी वनडे उन्होंने वेस्टइंडीज में खेला था, उसमें भी 28 रन देकर तीन विकेट लिये थे।' 

उन्होंने कहा, 'वह (अश्विन) बेहद कुशल गेंदबाज है। अब तक क्या हुआ मैं उस पर गौर नहीं करना चाहता लेकिन वह निश्चत तौर पर वनडे टीम का हिस्सा है। हम अन्य गेंदबाजों को भी मौका देना चाहते हैं। इसके बाद हमारे पास लंबी अवधि की योजना होगी और फिर हम उसके अनुसार फैसला कर पाएंगे।' अरुण पिछले एक साल तक टीम के साथ नहीं रहे, लेकिन उन्होंने कहा कि पिछले दो वर्षों में गेंदबाजी यूनिट में काफी सुधार हुआ है। उन्होंने कहा, 'अगर आप बोलिंग यूनिट पर गौर करें तो पिछले दो वर्षों में उसमें काफी सुधार हुआ है लेकिन 2019 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए हमारे पास प्रत्येक गेंदबाज का विकल्प होना चाहिए। हमारे देश में इस बेंच स्ट्रेंथ के लिये पर्याप्त गेंदबाज हैं।'