दैनिक भास्कर हिंदी: आईएसएल-6 (सेमीफाइनल-2, लेग-2) : बेंगलुरू को हराकर फाइनल में जाना चाहेगा एटीके

March 7th, 2020

हाईलाइट

  • आईएसएल-6 (सेमीफाइनल-2, लेग-2) : बेंगलुरू को हराकर फाइनल में जाना चाहेगा एटीके

कोलकाता, 7 मार्च (आईएएनएस)। हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन के दूसरे सेमीफाइनल के दूसरे लेग में रविवार को यहां के सॉल्ट लेक स्टेडियम में मेजबान एटीके एफसी का सामना मौजूदा चैम्पियन बेंगलुरू एफसी से होगा।

बेंगलुरू ने अपने घर में खेले गए पहले लेग में एटीके को 1-0 से हराया था और इस लिहाज से उसका पलड़ा भारी है। बेंगलुरू को हालांकि सिर्फ एक गोल की बढ़त प्राप्त है और एटीके दो गोल करते हुए यह मैच अपने नाम कर तीसरे खिताब की ओर से मजबूत कदम बढ़ाना चाहेगा।

एटीके को पता है कि उसके लिए बेंगलुरू को हराना आसान नहीं होगा क्योंकि मौजूदा चैम्पियन का डिफेंस शानदार खेल रहा है। रॉय कृष्णा, डेविड विलियम्स और इदु बेदिया जैसे खिलाड़ियों को पहले लेग में बेंगलुरू के डिफेंस के आगे काफी परेशानी हुई थी।

बेंगलुरू ने 19 मैचो में सिर्फ 13 गोल खाए हैं और ऐसे में गोल करने के लिए एंटोनियो हाबास की टीम को घर में श्रेष्ठ खेल दिखाना होगा। एटीके का घर में रिकार्ड शानदार रहा है और यही बात इस टीम को मनोबल देगी। इस टीम ने इस सीजन में घर में नौ मैचों में से छह में जीत हासिल की है और घर में 18 गोल किए हैं।

सबसे अहम बात यह है कि लीग स्तर पर एटीके ने बेंगलुरू को अपने घर में 1-0 से हराया था।

बेंगलुरू एफसी के कोच चार्ल्स कुआड्राट ने कहा, हम एक बेहद कठिन मैच की उम्मीद कर रहे हैं। यह बीते तीन सीजन में एटीके के लिए सबसे अहम मैच है। बीते दो सीजन में एटीके प्लेऑफ में नहीं पहुंच सकी थी और अब वह हर हाल में फाइनल में पहुंचना चाहेगी।

एटीके के लिए इस मैच में अपने डिफेंस लाइन को मजबूत बनाए रखना होगा क्योंकि बेंगलुरू में एक गलती उसके लिए भारी पड़ गई थी औ्र टीम एक अवे गोल खाने को मजबूर हुई थी। एटीके को अरिंदम भट्टाचार्य की गलती के कारण गोल खाना पड़ा था जबकि बेंगलुरू की टीम अधिक मौके नहीं बना सकी थी।

एटीके के कोच हाबास ने कहा, हमारा लक्ष्य मैच जीतना और फाइनल में जाना है। कोच के तौर पर मेरी ड्यूटी टीम को इस चुनौती के लिए तैयार करना है। हमारे लिए यह काफी महत्वपूर्ण चुनौती है। हम इसके लिए तैयार हैं।

बेंगलुरू की टीम एरिक पार्टालू और सुनील छेत्री के सेट पीसेज की बदौलत जीत हासिल करना चाहेगी। डिमास डेल्गाडो की डिलिवरी एटीके के डिफेंस के लिए खतरा हो सकता है। ऐसे में एटीके के डिफेंस को हर हाल में इसका काट खोजना होगा।

बेंगलुरू की टीम खुलकर स्कोर नहीं कर पा रही है लेकिन उसका डिफेंस शानदार खेल रहा है और इसी कारण यह टीम हर मैच में मबजूती से बनी रहती है। नीशू कुमार इस मैच में नहीं खेलेंगे और अल्बर्ट सेरान चोटिल हैं। ऐसे में बेंगलुरू अपने डिफेंस में बदलाव कर सकता है।

यह लड़ाई दो ऐसी टीमों के बीच है, जो तीसरी बार फाइनल खेलने को ललायित हैं। बेंगलुरू की टीम लगातार तीसरी बार फाइनल में पहुंचना चाहेगी और एटीके अपने तीसरे फाइनल के लिए प्रयास करेगी। बेंगलुरू का प्रयास खिताब बचाने की ओर कदम बढ़ाना होगा तो एटीके तीसरी बार यह खिताब जीतकर नया इतिहास रचना चाहेगी।