comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

IPL 2010: स्पिन गेंदबाज अश्विन बोले- खराब परफोर्मेंस के वजह से हुआ था टीम से बाहर, इन खिलाड़ियों ने की थी धुनाई

IPL 2010: स्पिन गेंदबाज अश्विन बोले- खराब परफोर्मेंस के वजह से हुआ था टीम से बाहर, इन खिलाड़ियों ने की थी धुनाई

हाईलाइट

  • अश्विन ने कहा, रोबिन उथप्पा और मार्क बाउचर ने मुझे कड़ा सबक सिखाया
  • मैंने 14वां, 16वां, 18वां और 20वां ओवर किया था
  • मुझे विकेट तो मिला नहीं लेकिन मैंने 40 या 45 रन लुटा दिया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में दो मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद भारत के टॉप आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को पता चल गया था कि टी20 में गेंदबाजी करना आसान नहीं होता है और इस वास्तविकता ने उन्हें एक दशक पहले कड़ा सबक सिखाया था। क्रिकेटर से कमेंटेटर बने संजय मांजरेकर के साथ ईएसपीएनक्रिकइन्फो के लिये पोडकास्ट में अश्विन ने बताया कि चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) की तरफ से खेलते हुए आईपीएल 2010 ने उन्हें किस तरह से प्रभावित किया। 

उन्होंने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की मुश्किल परिस्थितियों में खेलने पर बात की और बताया कि कि आखिर उनके स्पिन जोड़ीदार रविंद्र जडेजा क्यों नैसर्गिक खिलाड़ी हैं। अश्विन ने आईपीएल 2010 को याद किया जब दो मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद उन्हें सीएसके की टीम से बाहर कर दिया गया। यह उनके लिये कड़ा सबक था क्योंकि उन्हें लगता था कि स्टीफन फ्लेमिंग ने उनसे बात नहीं की और उन्हें टीम प्रबंधन का पर्याप्त समर्थन नहीं मिला था। 

उन्होंने कहा, मैं सोचता था कि प्रथम श्रेणी मैचों की तुलना में टी20 मैच में गेंदबाजी करना आसान होता है। यह रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ मैच था जिसमें रोबिन उथप्पा और मार्क बाउचर ने उनकी गेंदों की जमकर धुनाई की थी।

अश्विन ने कहा, रोबिन उथप्पा और मार्क बाउचर ने मुझे कड़ा सबक सिखाया। मैंने 14वां, 16वां, 18वां और 20वां ओवर किया था। मैं युवा था और नहीं जानता था कि यह एक चुनौती है। मुझे लगा कि यह विकेट हासिल करने का अच्छा मौका है। उन्होंने कहा, मुझे विकेट तो मिला नहीं लेकिन मैंने 40 या 45 रन लुटाकर अपनी टीम को परेशानी में डाल दिया था। अगला मैच सुपर ओवर तक खिंचा और हम हार गये। मुझे टीम से बाहर कर दिया गया। मुझे लगा जैसे किसी ने मुझ पर करारा तमाचा जड़ दिया है। 

ये वे दिन थे जब आईपीएल फ्रेंचाइजी घरेलू मैचों के दौरान होटल की लागत बचाने के लिये केवल शीर्ष 18 खिलाड़ियों को ही टीम में रखते थे। अश्विन को भी घर में बैठकर सीएसके के मैच देखने पड़े थे। उन्होंने कहा, मुझे बाहर कर दिया गया। मुझे होटल छोड़ना पड़ा और मैं घर में बैठ गया। 

कमेंट करें
4tYBU