comScore

जिला जल एवं स्वच्छता मिशन की बैठक सम्पन्न ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन हेतु चयनित ग्रामों के डीपीआर पर चर्चा!

जिला जल एवं स्वच्छता मिशन की बैठक सम्पन्न ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन हेतु चयनित ग्रामों के डीपीआर पर चर्चा!

डिजिटल डेस्क | शहडोल जिला पंचायत शहडोल द्वारा ग्राम स्तरीय ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन कार्य योजना विषय पर जिला जल एवं स्वच्छता मिशन के तत्वाधान में आज कलेक्टर कार्यालय के सभागार में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ. सतेन्द्र सिंह, विधायक जयसिंहनगर श्री जयसिंह मरावी, विधायक जैतपुर श्रीमती मनीषा सिंह, विधायक ब्यौहारी श्री शरद कोल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री मेहताब सिंह गुर्जर सहित जिले के जनपद पंचायतो के मुख्य कार्यपालन अधिकारी तथा जल एवं स्वच्छता से जुडे विभिन्न विभागो के अधिकारी एवं मिषन के सदस्यगण उपस्थित थे।

बैठक में सामुदायिक स्वच्छता परिसरो के प्रगति एवं संचालन की समीक्षा की गई तथा ग्रामों में अपषिष्ट प्रबंधन की गतिविधियो की बढावा देकर पर्यावरणीय स्वच्छता को टिकाउ बनाने में योगदान देने, खुले में शौच मुक्त बनाने, जन समान्य के जीवन में सुधार लाने, ग्रामो के अपशिष्ट से उपयोगी संसाधन प्राप्त करने तथा ऊर्जा उत्पादन करने के उद्देश्‍य से जिले के 2 हजार से अधिक आबादी के सभी ब्लाको से 99 ग्रामो का चयन किया गया है। चयनित ग्रामो में जनपद पंचायत गोहपारू के 13, ब्यौहारी के 20, बुढार के 24, सोहागपुर के 20 तथा जयसिहनगर के 22 ग्राम शामिल है। इस कार्ययोजना में जिला एवं खंड स्तरीय प्रशिक्षित स्त्रोत दल, प्रषिक्षित योजना निर्माण दल, योजना निर्माण की सहभागी पद्वति, अधोसंरचना के तकनीकी विकल्प एवं चुनाव एवं ग्राम स्तरीय अपषिष्ट प्रबंधन कार्ययोजना को शामिल किया गया है।

इस योजना के तहत ठोस अपषिष्ट प्रबंधन के कार्य के तहत सामुदायिक, रैपिड, कम्पोस्ट पिट (नडेप) व्यक्तिगत कम्पोस्ट पिट, व्यक्तिगत वर्मी कम्पोस्ट, सेग्रीगेशन शेड, कचरा संग्रह, ट्राईसाइकिल एवं इंशीनेटर तथा तरल अपषिष्ट प्रबंधन कार्य के तहत व्यक्तिगत सोक्ता गडढा, सामुदायिक सोक्ता गडढा, व्यक्तिगत किचन गार्डन, क्लोज ड्रैनेज सिस्टम के कार्य किये जाएगे। बैठक में कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र सिंह ने कहा कि, ऐसे स्थानो में नाडेप एवं सोक्ता बनाए जाए जहां उनका उपयोग अधिकाधिक एवं सुलभ तरीके से हो सके। विधायक जयसिंहनगर ने कहा कि चयनित ग्रामो के व्यक्तिो को इस हेतु पहले जागरूक करना होगा ताकि, इनका सदुपयोग कर इसका लाभ भी हासिल कर सके। बैठक में स्वच्छता एवं जल के उपयोग से जुड़ी अन्य बिन्दुओ पर भी गहन विचार-विमर्ष किया गया।

कमेंट करें
m0sPT