कोतवाली, सांवरी और लावाघोघरी थाना क्षेत्र में हुए हादसे: भीषण दुर्घटनाए: तीन सडक़ हादसों में चार लोगोंं ने गंवाई जान

August 3rd, 2022

डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा।  सांवरी चौकी क्षेत्र के भुताई और कामठी के बीच मंगलवार रात कार और तेज रफ्तार आयसर ट्रक की सीधी भिड़ंत हो गई। हादसे में कार सवार दो युवकों की निजी अस्पताल में इलाज के दौरान देर रात मृत्यु हो गई। लावाघोघरी के क्षेत्र में मंगलवार को बाइक की भिड़ंत में दंपती समेत तीन लोगों को चोट आई थी। हादसे में गंभीर रुप से घायल एक अधेड़ की मौत हो गई। इधर तीसरा हादसे में बाइक सवार युवक अनियंत्रित होकर सडक़ पर गिर गया था। हादसे में घायल की निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मंगलवार रात मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है।
बाइक फिसलने से गिरे चालक की मौत : एएसआई लखनलाल सरेयाम ने बताया कि थुनियाभांड निवासी 35 वर्षीय सकील पिता फागलाल इवनाती शनिवार रात तिवड़ाकामथ स्थित अपने खेत से घर लौट रहा था। इमलीखेड़ से थुनियाभांड के बीच उसकी बाइक फिसल गई। परिजनों ने उसे जिला अस्पताल लाकर भर्ती कराया। आराम न लगने पर उसे निजी अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। इलाज के दौरान मंगलवार रात सकील की मौत हो गई।
ट्रक और कार की टक्कर में दो की मौत
अस्पताल चौकी पुलिस ने बताया कि थुनियाभांड निवासी 50 वर्षीय रवि पिता रामजी सूर्यवंशी, सिवनी प्राणमोती निवासी 28 वर्षीय अनिल पिता हेमराज वाडिवा गांधीगंज स्थित हरिओम होजरी के वर्कर थे। मंगलवार को वे होजरी का सामान लेकर सांवरी गए थे। रात लगभग 7 से 8 बजे के बीच वे वापस लौट रहे थे। रास्ते में आयसर ट्रक और कार की सीधी भिड़ंत हो गई। हादसे में रवि और अनिल को गंभीर चोट आई थी। घायलों को स्थानीय लोगों की मदद से जिला अस्पताल लाया गया। यहां से घायलों को निजी अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। इलाज के दौरान देर रात दोनों की मौत हो गई।
बाइक की भिड़ंत में पति की मौत, पत्नी घायल
अस्पताल चौकी पुलिस ने बताया कि लावाघोघरी के ग्राम भैंसाडोंगरी निवासी 56 वर्षीय चैतराम पिता घंसू वाडिवा मंगलवार को पत्नी पार्वती के साथ बाइक से मोहगांवनराजी बेटे के ससुराल जा रहे थे। रास्ते में तेज रफ्तार बाइक सवार ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। हादसे में चैतराम, पार्वती और दूसरी बाइक सवार मुलताई निवासी 35 वर्षीय सुरेन्द्र को चोट आई थी। घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। हालत गंभीर होने पर चैतराम को चिकित्सकों ने नागपुर रेफर किया था। नागपुर ले जाते वक्त रास्ते में चैतराम ने दाम तोड़ दिया।