comScore

कानपुर एनकाउंटर: यूपी पुलिस के ADG बोले- व्यर्थ नहीं जाएगी पुलिसकर्मियों की शहादत, पछताएंगे बदमाश

कानपुर एनकाउंटर: यूपी पुलिस के ADG बोले- व्यर्थ नहीं जाएगी पुलिसकर्मियों की शहादत, पछताएंगे बदमाश

हाईलाइट

  • विकास दुबे पर इनाम की राशि बढ़ाकर 5 लाख की गई

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। कानपुर शूटआउट का मुख्य आरोपी विकास दुबे अब उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा ईनामी अपराधी बन गया है। दुबे पर घोषित इनाम की राशि को ढाई लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दिया गया है। इसी बीच यूपी पुलिस के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं। एडीजी ने कहा, कानपुर में पुलिस जवानों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे। जो भी कार्रवाई होगी, विधिक होगी और ऐसी होगी कि घटना में जो भी लोग शामिल हैं उन्हें हमेशा पछतावा होगा।

यूपी पुलिस के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा, कानपुर घटना में नामित और वांछित अमर दुबे को आज सुबह मार गिराया है। फरीदाबाद में मुठभेड़ में मारे गए विकास दुबे के करीबी अमर दुबे के पास से एक अवैध पिस्टल और कारतूस बरामद हुआ है। अन्य अपराधी श्यामू बाजपेयी, जहान यादव, संजू दुबे को कानपुर पुलिस ने​ गिरफ्तार किया है। इनके पास से 9MM की दो सरकारी पिस्टल, 2 अन्य पिस्टल और 44 जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं।

कानपुर कांड: फरीदाबाद में छिपा है विकास दुबे? CCTV कैमरे में कैद, तीन लोगों गिरफ्तार, पूछताछ जारी

25 हजार से पांच लाख इनामी हुआ विकास  
यूपी के अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बुधवार को विकास दुबे को पकड़ने वाले को 5 लाख रूपये का इनाम देने की घोषणा की है। अपर मुख्य सचिव अवस्थी ने बताया, विकास दुबे की सूचना देने पर अब पांच लाख रूपये की धनराशि दी जाएगी। विकास दुबे पर पहले 25 हजार का इनाम था, जिसको बढ़ाकर 50 हजार, 1 लाख के बाद 2.5 लाख किया गया था। 50 हजार रुपये के इनामी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था।

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने विकास दुबे पर इनाम की राशि बढ़ाकर 2.5 लाख रुपये करने का प्रस्ताव रखते हुए फाइल डीजीपी कार्यालय भेजी थी। डीजीपी ने 2.5 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। इसके बाद बुधवार को प्रदेश सरकार ने दुबे की अपराधिक गतिविधियों में बढ़ रही संलिप्तता को देखते हुए इस राशि को ढाई लाख से बढ़ाकर पांच लाख कर दिया।

गौरतलब है कि, कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में दो व तीन जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस की टीम के एक सीओ, तीन दारोगा तथा चार सिपाही की हत्या का मुख्य आरोपित हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे अभी भी प्रदेश की पुलिस की पकड़ से बाहर है। भारी भरकम टीमें प्रदेश के साथ बाहर भी उसकी तलाश में लगी हैं। इसके साथ ही पुलिस ने मोस्टवांटेड विकास दुबे जगह-जगह पर पोस्टर्स लगवाए हैं। इनमें टोल प्लाजा के साथ ही प्रदेश के बार्डर पर भी जगह-जगह विकास दुबे के पोस्टर्स लगे हैं।

कमेंट करें
mD5dE