comScore

चंडीगढ़: कोरोना संक्रमित 6 महीने की बच्ची की मौत, हार्ट सर्जरी के लिए हुई थी भर्ती

चंडीगढ़: कोरोना संक्रमित 6 महीने की बच्ची की मौत, हार्ट सर्जरी के लिए हुई थी भर्ती

हाईलाइट

  • दिल का इलाज कराने के लिए भर्ती हुई थी बच्ची
  • अस्पताल में ही टेस्ट में पाई गई कोरोना पॉजिटिव
  • एक दिन कोरोना से लड़ी जंग, फिर तोड़ दिया दम

डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। चंडीगढ़ में पिछले 24 घंटे से कोरोना वायरस से जंग लड़ रही 6 महीने की मासूम ने गुरुवार को दम तोड़ दिया। फगवाड़ा की रहने वाली कोरोना वायरस से संक्रमित बच्ची की पीजीआई में मौत हुई। वहीं बच्ची के   बच्ची के माता-पिता और दादा-दादी समेत हेल्थ स्टाफ के सभी 54 सदस्यों को क्वारंटीन कर दिया गया है। इसमें 18 डॉक्टर भी शामिल हैं। बता दें कि, बच्ची दिल का इलाज कराने के लिए अस्पताल में भर्ती की गई थी। हार्ट सर्जरी से पहले उसका टेस्ट किया गया था, बुधवार को रिपोर्ट आई जिसमें वह कोरोना पॉजिटिव मिली जिसके बाद उसे कोरोना वॉर्ड में भर्ती किया गया। एक दिन बाद गुरुवार को मासूम की मौत हो गई।   

9 अप्रैल को किया गया था भर्ती
दरअसल पंजाब के फगवाड़ा की रहने वाली इस बच्ची के दिल में छेद था। बच्ची के माता-पिता इलाज के लिए उसे पीजीआई के एडवांस पीडियाट्रिक सेंटर में लेकर आए थे। यहां 9 अप्रैल को बच्ची को भर्ती किया गया था। पिछले दो दिन से बच्ची को इंफेक्शन हो रहा था, जिसके बाद उसका कोराना टेस्ट किया गया, तो रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई।

कोरोना से जंग में दुनिया में नंबर वन नेता बने पीएम मोदी, ट्रंप को भी पछाड़ा

पीजीआई से पहले एक अस्पताल में 36 दिनों तक थी भर्ती
पीजीआई ने बुधवार को एक बयान में कहा कि, तीन किलो वजनी इस बच्ची में एकियानोटिक कांजेंशियल हार्ट डिसीज पाया गया था और उसे कॉन्जेस्टिव हार्ट फेल्योर भी था। शुरुआत में उसे लुधियाना में एक कॉरपोरेट हॉस्पिटल में 36 दिनों तक भर्ती कराया गया था और उसके बाद उसे करेक्टिव सर्जरी के लिए पीजीआई रेफर कर दिया गया था।

MP: दमोह में 6 साल की मासूम से रेप, फिर फोड़ी आंखें, CM बोले- दरिंदे को होगी सख्त सजा

बच्ची की हालत में हो रहा था सुधार
बयान में कहा गया, बच्ची को 9 अप्रैल को एडवांस्ड पेडियाट्रिक्स सेंटर में भर्ती कराया गया था और उसकी हालत नाजुक थी। उसके बाद उसकी हालत स्थिर हुई और उसे लगातार वेंटिलेशन सपोर्ट और एंटीमाइक्रोबियल्स की जरूरत थी। उसकी सामान्य स्थिति में धीरे-धीरे सुधार हो रहा था।

कोई यात्रा इतिहास न होने के कारण नहीं किया गया था कोरोना टेस्ट
पीजीआई के अनुसार, कार्डियोलाजिस्ट और कार्डियोथोरैसिक सर्जन द्वारा विस्तृत विश्लेषण के बाद एडवांस्ड कार्डियक सेंटर में उसकी ओपन हर्ट सर्जरी होनी थी, लेकिन ऑपरेशन से पहले कोविड-19 के लिए की गई उसकी जांच 21 अप्रैल को पॉजिटिव पाई गई। पीजीआई ने कहा कि न तो उसका कोई यात्रा इतिहास था और न ही उसके परिवार का कोई यात्रा इतिहास था। इसलिए प्रारंभ में उसकी स्क्रीनिंग करने की जरूरत नहीं महसूस की गई थी।

MP: दमोह में 6 साल की मासूम से रेप, फिर फोड़ी आंखें, CM बोले- दरिंदे को होगी सख्त सजा

कमेंट करें
0Wx4k